Home दुनिया कोरोना वायरस: इस्कॉन मंदिर ने सभी विदेशी भक्तों से मंदिर ना आने...

कोरोना वायरस: इस्कॉन मंदिर ने सभी विदेशी भक्तों से मंदिर ना आने का आग्रह किया

197
0
SHARE

कोरोना वायरस: इस्कॉन मंदिर ने सभी विदेशी भक्तों से मंदिर ना आने का आग्रह किया

नई दिल्ली (तेज समाचार डेस्क): इटली के पर्यटक की पत्नी की रिपोर्ट भी पॉजिटिव का एक नया मामला सामने आने के साथ ही देश में वायरस से संक्रमित लोगों की कुल संख्या 31 तक पहुंच चुकी है। इनमें से तीन मामले दिल्ली-एनसीआर के हैं। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने गुरुवार को पुष्टि की कि अभी तक देश में कोविड-19 के कुल पाजिटिव मामलों की संख्या 31 हो गई है। 31 में से 15 मरीजों का इलाज गुरुग्राम में हो रहा है, 10 मरीज दिल्ली के अस्पताल में भर्ती है, 1 मरीज तेलंगाना में है, 2 मरीज जयपुर में इलाज चल रहा है। इन 31 मरीजों में 16 मरीज इटली के निवासी हैं जो भारत घूमने आए थे। 6550 फ्लाइट्स से आए अब तक 6,49,452 यात्रियों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है।
LIVE अपडेट..-मथुरा स्थित मशहूर इस्कॉन मंदिर ने एडवाइजरी जारी करते हुए सभी विदेशी भक्तों से अगले दो महीने तक मंदिर नहीं आने का आग्रह किया है। एडवाइजरी को दूसरे देशों में स्थित इस्कॉन मंदिर के जरिए भक्तों तक पहुंचाया गया है। इस एडवाइजरी को कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए और मथुरा के पड़ोसी जिले आगरा में बीमारी के अधिकतम संदिग्ध मामले पाए जाने के बाद जारी किया गया।
इन मामलों में केरल के वह तीन संक्रमित लोग भी शामिल हैं, जो अब ठीक हो चुके हैं और उन्हें अस्पताल से भी छुट्टी दे दी गई है। दिल्ली-एनसीआर में तीन पाजिटिव रिपोर्ट वाले मामले हैं, जिनमें से दो लोगों ने इटली की यात्रा की थी। एक व्यक्ति ईरान गया था। दिल्ली में संक्रमित पहले व्यक्ति से एक जन्मदिन की पार्टी के दौरान आगरा के छह लोगों को कथित तौर पर संक्रमण हुआ।
तेलंगाना में भी कोरोना के एक मामले की पुष्टि हुई है। संक्रमित व्यक्ति ने दुबई का दौरा किया था, जहां उसे सिंगापुर के एक व्यक्ति से संक्रमण हुआ था। इन मामलों के अलावा 16 इतालवी पर्यटक भी संक्रमित हैं, जो भारत में घूमने आए थे। उनके साथ रह रहा एक भारतीय ड्राइवर भी संक्रमित हुआ है। तेलंगाना के पहले के दो संदिग्ध मामलों की रिपोर्ट नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी) पुणे में नकारात्मक पाई गई है।
मंत्रालय का कहना है कि संक्रमण की चपेट में आए इतालवी पर्यटक और भारतीय नागरिकों की हालात स्थिर है और उन पर कड़ी नजर रखी जा रही है।