Home महिला जगत पीहू के साथ दिव्यांग भी झूम उठे “नृत्यप्रवाह” में,

पीहू के साथ दिव्यांग भी झूम उठे “नृत्यप्रवाह” में,

124
0
SHARE

नई दिल्ली ( तेजसमाचार प्रतिनिधि ) – बीते रविवार की शाम दिल्ली के नृत्य और कला प्रेमी एक अद्भुत अनुभव से गुज़रे  जब इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय कला केंद्र में ओडिसी की युवा नृत्यांगना पीहू श्रीवास्तव की मनमोहक प्रस्तुति “नृत्यप्रवाह” देखने को मिली l पीहू श्रीवास्तव ओडिसी की प्रख्यात नृत्यांगना गुरु अल्पना नायक की शिष्या हैं और “नृत्यप्रवाह” की सबसे ख़ास बात यह रही कि पीहू ने चार दिव्यांग नर्तक बच्चों के साथ नृत्य किया और  सन्देश दिया “हम भी सक्षम” l कार्यक्रम का आयोजन दिल्ली की स्वयंसेवी संस्था “अल्पना” ने किया था l

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लगातार इस बात पर बल देते हैं कि समग्र समाज के निर्माण के लिए दिव्यांगजनों को भी समाज में बराबरी से देखने और पर्याप्त अवसर देने की आवश्यकता है l इसी से प्रेरणा लेकर गुरु अल्पना ने नृत्यप्रवाह का आयोजन किया, जहाँ पीहू श्रीवास्तव ने दिव्यांग तन्मय अग्रवाल, अभिषेक राणा, ख़ुशी सागर और प्रीती के साथ मंच साझा किया l गौरतलब है कि गुरु अल्पना के सानिध्य में पीहू 2 साल से लगातार दिव्यांग बच्चों को नृत्य का प्रशिक्षण भी दे रही हैं l

रविवार को आयोजित इस नृत्यप्रवाह कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे राज्यसभा के वरिष्ठ सांसद श्री आर.के.सिन्हा और विशिष्ठ अतिथियों में पद्मश्री गुरु श्रीमती गीता महालिक, डीडी न्यूज़ के महानिदेशक श्री मयंक अग्रवाल , राज्यसभा के पूर्व सांसद श्री तरुण विजय, सामाजिक कार्यकर्ता श्रीमती भारती सिंह और हंसराज कॉलेज की प्रिंसिपल श्रीमती रमा भी उपस्थित थीं l

कार्यक्रम की शुरुआत मंगलाचरण से हुई जिसमें पीहू ने दिव्यांग तन्मय, अभिषेक, ख़ुशी और प्रीती के साथ शिव तांडव के माध्यम से भगवान् शिव को पुष्पांजलि अर्पित की l इस नृत्य को कोरियोग्राफ किया था स्वयं गुरु अल्पना नेl इसके बाद पीहू ने रागेश्वरी-पल्लवी नृत्य प्रस्तुत किया l इसके पश्चात दिव्यांग बच्चों की “हम भी सक्षम” प्रस्तुति हुई l इस नृत्य में दिव्यांग बच्चों ने बट्टू की प्रस्तुति दी जो विशुद्ध नृत्य है l

दिव्यांग बच्चों के इस नृत्य के बाद पीहू ने एक के बाद एक दो बेहद खूबसूरत प्रस्तुति दीं l पहली अष्टपदी नृत्य की बेहद सुन्दर प्रस्तुति थी l यह नृत्य गीत गोविन्दम का हिस्सा है जो ओडिया के महान कवि जयदेव की कृति है l अंत में पीहू ने लोकप्रिय ओडिया भक्ति गीत “ऐ निला शैला प्रबला” पर नृत्य किया जिसमें पीहू के अभिनय, नृत्य और असीम उर्जा को देखकर सभी दर्शक मंत्रमुग्ध रह गए l  कार्यक्रम के अंत में मुख्य अतिथि श्री आर.के.सिन्हा ने कहा कि पीहू के नृत्य की प्रशंसा करते हुए कहा कि जिस तरह गैर ओडिया होते हुए भी पीहू ने ओडिसी नृत्य को अंगीकार किया है और जिस तरह की प्रस्तुति उन्होंने दी है उसकी जितनी प्रशंसा की जाए कम है l