Home खानदेश समाचार शिरपुर : बहू ने अपनी सास को दी मुखाग्नि

शिरपुर : बहू ने अपनी सास को दी मुखाग्नि

377
0
SHARE
शिरपुर (तेज समाचार प्रतिनिधि). अभी तक हम देखते-सुनते आए हैं कि परिवार में किसी की मृत्यु हो जाने के बाद उस मृत्यक का पुत्र, पुत्री, पति, नाती-पाते के द्वारा मुखाग्नि दी जाती है. लेकिन शिरपुर में एक बहू द्वारा अपनी सास को मुखाग्नि देने का आदर्श उदाहरण देखने को मिला है.

– 101 वर्ष की उम्र में हुआ निधन
जानकारी के अनुसार 17 जनवरी शुक्रवारी को शहर के पूर्व नगराध्यक्ष प्रभाकरराव चव्हाण की मां जावत्राबाई तुकाराम चव्हाण का 101 वर्ष की उम्र में निधन हो गया. शनिवार को उनकी अंत्ययात्रा दोपहर 3 बजे उनके निवास माली गली से निकाली गई. इस अंत्ययात्रा में असंख्य पुरुषों के साथ ही परिवार की महिलाएं भी थी. अमरधाम में परिवार के सभी लोगों की एक राय बनी कि बीमारी की अवस्था में जावत्राबाई की उनकी बहू प्रमिलाबाई ने एक बेटी की तरह सेवा की थी. अत: उनके हाथों से ही मुखाग्नि दी जाए. एक मत होने के बाद जावत्राबाई की बहू प्रमिलाबाई ने अपनी सास को मुखाग्नि दी. यह एक आदर्श उदाहरण लोगों को देखने को मिला.

– चलफिर नहीं सकती थी जावत्राबाई
जावत्राबाई पिछले लंबे समय से वृद्धावस्था के कारण चल-फिर नहीं सकती थी. इस अवस्था में प्रभाकरराव चव्हाण की पत्नी व जावत्राबाई की बहू प्रमिलाबाई चव्हाण ने अपनी सास की मां की तरह सेवा की. जावत्राबाई को चलना-फिरना संभव नहीं होने के कारण प्रमिलाबाई व्हील चेयर पर बिठा कर उन्हें गली में घुमाने ले जाती थी. वे हर बात का बारीकी से ध्यान रखती थी. स्वभाव से सख्त होने के कारण और वृद्धावस्था की चिड़चिड़ाहट के कारण कई बार जावत्राबाई गली में घुमाते समय अपनी बहू प्रमिलाबाई को चिड़ कर डांट देती थी. कई बार तो उनका हाथ भी अपनी बहू पर उठा जाता था. लेकिन एक बेटी की तरह प्रमिलाबाई ने अपनी सास के इस स्वभाव का बुरा नहीं माना और मां की तरह ही उनकी लगातार सेवा करती रही. इसी कारण पूरे परिवार की इच्छा थी कि जिस बहू ने अपनी सास की मां की तरह सेवा की उसी के हाथ से मुखाग्नि दी जाए.
– अंत्ययात्रा के मार्ग में निकाली गई रंगोली
जावत्राबाई ने उम्र का शतक पार किया था. सभी उनका बड़ा सम्मान करते थे. इस कारण उनकी अंत्ययात्रा के मार्ग में शहर में विभिन्न स्थानों पर रंगोली निकाली गई. इसके साथ ही उनके निवास स्थान माली गली से उनकी अंत्ययात्रा बाजे-गाजे के साथ निकाली गई. अमरधाम को भी जहां मुखाग्नि दी जानी थी, उस स्थान को फूलों से सजाया गया था.
– अंत्ययात्रा में शामिल हुए लोग
जावत्राबाई की अंत्ययात्रा में राजनीतिक लोगों के साथ ही सामाजिक क्षेत्र के लोग भी बड़ी संख्या में उपस्थित थे. इनमें पूर्व मंत्री अमरीश पटेल, विधायक जयकुमार रावल, विधायक काशीराम पावरा, जिला परिषद अध्यक्ष तुषार रंधे, भाजपा जिलाध्यक्ष बबनराव चौधरी, नंदूरबार भाजपा जिलाध्यक्ष विजय चौधरी, कांग्रेस जिलाध्यक्ष श्यामकांत सनेर, धुलिया के महापौर चंद्रकांत सोनार, राजवर्धन कदमबांडे, हिलाल माली, सतीश महाले, पूर्व विधायक शरद पाटिल, कामराज निकम, संजय शर्मा, शिरपुर पंचायत समिति के सभापति सत्तरसिंह पावरा सहित समाज के लोग आदि बड़ी संख्या में शामिल हुए.