Home खानदेश समाचार नार – पार नदीजोड प्रकल्प को मिलेगा प्रोत्साहन -भामरे

नार – पार नदीजोड प्रकल्प को मिलेगा प्रोत्साहन -भामरे

300
1
SHARE
subhash Bhamare

संसद भामरे ने मुंबई में मुख्यमंत्री तथा जल संसाधन मंत्री की उपस्थिति में की समीक्षा बैठक

धुलिया(वाहिद काकर):उत्तर महाराष्ट्र के सूखा प्रभावित क्षेत्र में कृषि सिंचाई और पानी की समस्या का हल करने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की अध्यक्षता में एक समीक्षा बैठक मुंबई में आयोजित की गई थी जिसमें पूर्व रक्षा राज्य मंत्री तथा सांसद डॉक्टर सुभाष भामरे जल संसाधन मंत्री गिरीश महाजन की प्रमुख रूप से आमंत्रित किए गए. इस दौरान सांसद भामरे ने केंद्र सरकार को राष्ट्रीय परियोजना के रूप में नार-पार परियोजना के साथ चार नदी लिंक परियोजनाओं को मान्यता देने की मांग की थी. इस दौरान उन्होंने कहा कि नाशिक ज़िले की सुरगणा तहसील क्षेत्र में सह्याद्री पर्वत श्रृंखला के कारण बड़े पैमाने पर बारिश होती है.इस इलाके में चार प्रमुख नदियां  नार, पार, औरंगा तथा अंबिका हैं.राज्य सरकार तथा केंद्र सरकार इन नदियों को जोड़ने की राष्ट्रीय मान्यता देती है तो उत्तर महाराष्ट्र के किसान सुजलाम सुफलाम और सूखे से मुक्त हो जाएंगे.इस तरह का प्रतिपादन समीक्षा बैठक में सांसद भामरे ने किया.

यह भी पड़े :शिरपुर वरवाडे नगर परिषद नाशिक विभाग में प्रथम

पर्यावरण के बचाव के लिए सभी एक पौधा लगाएं- मंत्री जयकुमार रावल

साहित्य एवं चिंतन – प्रतिभा सम्पन्न युवा लेखिका डॉ. सुजाता मिश्र

मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने समीक्षा बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि राज्य में नदी जोड़ो परियोजना में आने वाली तकनीकी बाधाओं को दूर करके इन परियोजनाओं को प्रोत्साहन दिया जाए ऐसे निर्देश मुख्यमंत्री श्री देवेंद्र फडणवीस ने दिए.

राज्य सरकार की ओर से कार्यान्वित किए जाने वाले नदी जोड़ो परियोजना की समीक्षा के लिए सहयाद्री अतिथि गृह में आयोजित बैठक में श्री फडणवीस बोल रहे थे. राज्य सरकार की ओर से दमनगंगा-पिंजल, नार-पार-गिरना,पार गोदावरी, दमनगंगा- वैतरणा- गोदावरी तथा दमनगंगा -एक दरें -गोदावरी नदियों को जोड़ने की परियोजना हाथ ली गई है.

इन परियोजनाओं के लिए लम्बे समय तक के लिए कम ब्याज वाली निधि उपलब्ध कर परियोजनाओं को चलाने पर भी इस बैठक में चर्चा की गई. इसके अलावा पर्याप्त पानी उपलब्ध करवाने को लेकर अध्ययन करने के निर्देश मुख्यमंत्री ने दिए. साथ ही इस योजना में बांध के कारण बाधित होने वाले व्यक्तियों को पानी आरक्षित रखने की सूचना भी मुख्यमंत्री ने इस समय दी. इस बैठक में जलसंपदा मंत्री गिरीश महाजन, नियोजन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव देवाशीष चक्रवर्ती, जलसंपदा विभाग के सचिव राजेंद्र पवार, परियोजना सचिव एस के घाणेकर तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे इस अवसर पर संसद भामरे में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस तथा जल संसाधन मंत्री गिरीश महाजन का आभार प्रकट किया है