Home देश काशी : तूफान बन चुकी है मोदी लहर

काशी : तूफान बन चुकी है मोदी लहर

223
0
SHARE

– बनारस में विहंगम रोड शो… 

काशी (तेज समाचार डेस्क). जो लोग यह मान रहे हैं कि देश में मोदी लहर खत्म हो गई है, वे एक प्रकार से बिल्कुल सही सोच रहे हैं. देश में कहीं भी मोदी लहर नहीं है, बल्कि 2014 की मोदी लहर एक तूफान में बदल चुकी है. 2019 के इस लोकसभा चुनाव में मोदी नाम का तूफान बवंडर बन कर छाया हुआ है. यह सर्व विदित है कि जब ऐसा भयंकर तूफान आता है, बवंडर आता है, तो लोग स्वयं को बचाने के लिए एक दूसरे का हाथ पकड़ लेते हैं, कि कहीं इस बवंडर में वे स्वयं न उड़ जाए. यहीं हाल इस समय मोदी विरोधियों का दिखाई दे रहा है. मोदी के समस्त विरोधियों ने अपने शिकवेगिले भुला कर एक दूसरे का हाथ थाम लिया है. आज भगवान भोले की नगर काशी में मोदी का वहीं बवंडर दिखाई दिया, जिसका डर उनके विरोधियों को बैचेन किए जा रहा है.
गुरुवार को बनारस में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की रैली का आयोजन किया गया था. यह रैली 7 किलोमीटर से भी अधिक लंबी थी. विहंगम दृश्य देख का विपक्ष के पसीन छूट रहे थे. सूत्रों के अनुसार मोदी शुक्रवार को वाराणसी से अपना नामांकन जमा करेंगे.
-मदन मोहन मालवीय की प्रतिमा से शुरू हुआ रोड शो
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महामना मदन मोहन मालवीय की प्रतिमा पर माल्यार्पण के बाद रोड शो किया. इस दौरान अलग-अलग समुदायों के लोग मोदी का स्वागत किया. 7 किलोमीटर लंबा रोड शो दशाश्वमेध घाट पर हुआ. मोदी यहां गंगा आरती के लिए पहुंचे. भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी आरती में शामिल हुए. आरती के बाद मोदी ने गंगा की पूजा-अर्चना भी की.
– बनारस के फक्कड़पन में रम गया ये फकीर
मोदी ने रोड शो के बाद एक जनसभा को भी संबोधित किया. उन्होंने कहा, 5 वर्ष पहले जब काशी की धरती पर मैंने कदम रखा था, तब कहा था कि मां गंगा ने मुझे बुलाया है. गंगा ने ऐसा दुलार दिया, काशी के बहन-भाइयों ने इतना प्यार दिया कि बनारस के फक्कड़पन में ये फकीर भी रम गया. मोदी शुक्रवार को काल भैरव और काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन करने के बाद अपना नामांकन दाखिल करेंगे. वे यहां से दूसरी बार लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं.
– कांग्रेस ने अजय राय को फिर उतारा मैदान में
मोदी के खिलाफ उतरे कांग्रेस के राय 2014 में तीसरे नंबर पर थे
कांग्रेस ने मोदी के खिलाफ वाराणसी से अजय राय को मैदान में उतारा है. पहले यहां से प्रियंका गांधी को टिकट दिए जाने की अटकलें थीं. कांग्रेस ने पिछली बार भी यहां अजय को ही टिकट दिया था. 2014 में मोदी को 5.81 लाख वोट मिले थे. अरविंद केजरीवाल दूसरे नंबर पर रहे थे. उन्हें 2.09 लाख वोट और कांग्रेस उम्मीदवार अजय राय को 75 हजार वोट मिले थे. राय पहले भाजपा में थे. तीन बार भाजपा के टिकट पर विधायक भी रहे. 2009 के लोकसभा चुनाव में वे सपा के टिकट पर चुनाव लड़े थे, लेकिन हार गए थे. इसके बाद वे 2009 में निर्दलीय विधायक रहे. बाद में वे कांग्रेस में शामिल हो गए. इस बार सपा ने वाराणसी से शालिनी यादव को टिकट दिया. शालिनी कांग्रेस के पूर्व सांसद और राज्यसभा के पूर्व उपसभापति श्यामलाल यादव की पुत्रवधू हैं.