Home कारोबार पोस्ट ऑफिस की फ्रेंचाइजी से कमाई

पोस्ट ऑफिस की फ्रेंचाइजी से कमाई

1200
0
SHARE

नई दिल्ली ( तेजसमाचार प्रतिनिधि ) – व्यापार प्रतिद्वंदिता के चलते फ्रेंचाइजी लेने का चलन बढ़ता जा रहा है. इसी दिशा में अब भारतीय डाक विभाग ने निज़ी स्तर पर पोस्ट ऑफिस खोलने के लिए फ्रेंचाइजी देने का निर्णय लिया है.

फ्रेंचाइजी लेकर पोस्ट ऑफिस के प्रोडक्ट्स बेचकर अच्छी खासी कमाई की जा सकती हैं. फ्रेंचाइजी के जरिए  स्‍टांप, स्‍टेशनरी, स्‍पीड पोस्‍ट आर्टिकल्‍स, मनी ऑर्डर, सेविंग्स सर्टिफिकेट आदि बेचकर कमीशन कमाया जा सकता हैं. इससे पहले भारतीय डाक विभाग ने ‘ग्रामीण डाकसेवक’ पद की भारती कर लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया है.

अब भारतीय डाक विभाग की इस व्यापारिक उपलब्धि से पढ़े लिखे लोग अपनी आजीविका प्रारंभ कर सकेंगे.फ्रेंचाइजी लेने के लिए इंडिया पोस्‍ट ने न्यूनतम 8वीं पास सीमा तय की है.  इस फ्रेंचाइजी को कोई भी व्यक्ति, इंस्‍टीट्यूशंस, ऑर्गेनाइजेशंस या अन्‍य उद्यमी  जैसे कॉर्नर शॉप, पान वाले, किराने वाले, स्‍टेशनरी शॉप, स्‍मॉल शॉपकीपर आदि ले सकते हैं. इनके अलावा नए शुरू होने वाले इंडस्ट्रियल सेंटर, कॉलेज, पॉलिटेक्निक्‍स, यूनिवर्सिटीज, प्रोफेशनल कॉलेज आदि भी भारतीय डाक विभाग की फ्रेंचाइजी का काम ले सकते हैं.

फ्रेंचाइजी लेने के लिए व्यक्ति की उम्र कम से कम 18 साल होनी चाहिए.  फ्रेंचाइजी के लिए निर्धारित हुए लोगों को भारतीय डाक विभाग के साथ अनुबंध साइन करना होगा. फ्रेंचाइजी लेने वाले का सिलेक्‍शन सबंधित डिविजनल हेड द्वारा किया जाता है, जो आवेदन मिलने के 14 दिनों के अंदर ASP /sDl की रिपोर्ट पर आधारित होता है. जहां पंचायत संचार सेवा योजना स्‍कीम के तहत पंचायत संचार सेवा केन्‍द्र मौजूद हों वहां फ्रेंचाइजी खोलने की अनुमति नहीं दी जाती.

भारतीय डाक विभाग  की फ्रेंचाइजी लेने के लिए न्यूनतम  सिक्‍योरिटी डिपॉजिट 5000 रुपए है.

फ्रेंचाइजी में बिक्री किया जायेगा –

  1. स्‍टांप और स्‍टेशनरी
  2. ई-गवर्नेंस और सिटीजन सेंट्रिक सर्विस
  3. भविष्‍य में डिपार्टमेंट द्वारा पेश की जाने वाली सर्विस
  4. बिल/टैक्‍स/जुर्माने का कलेक्‍शन और पेमेंट जैसी रिटेल सर्विस
  5. रजिस्‍टर्ड आर्टिकल्‍स, स्‍पीड पोस्‍ट आर्टिकल्‍स, मनी ऑर्डर की बुकिंग. हालांकि 100 रुपए से कम का मनी ऑर्डर नहीं होगा बुक
  6. ऐसे प्रोडक्‍ट्स की मार्केटिंग, जिसके लिए डिपार्टमेंट ने कारपोरेट एजेंसी हायर की हुई हो या टाई-अप किया हुआ हो. साथ ही इससे जुड़ी सेवाएं.
  7. पोस्‍टल लाइफ इंश्‍योरेंस (PLI) के लिए एजेंट की तरह करेगा काम, साथ ही इससे जुड़ी आफ्टर सेल सर्विस जैसे प्रीमियम का कलेक्‍शन भी उपलब्‍ध कराएगा.

इन उत्पादों पर मिलेगा कमीशन –

 रजिस्‍टर्ड आर्टिकल्‍स की बुकिंग पर 3 रुपए

स्‍पीड पोस्‍ट आर्टिकल्‍स की बुकिंग पर 5 रुपए

100 से 200 रुपए के मनी ऑर्डर की बुकिंग पर 3.50 रुपए, 200 रुपए से ज्‍यादा के मनी ऑर्डर पर 5 रुपए

हर माह रजिस्‍ट्री और स्‍पीड पोस्‍ट के 1000 से ज्‍यादा आर्टिकल्‍स की बुकिंग पर 20 प्रतिशत  अतिरिक्‍त कमीशन

 पोस्‍टेज स्‍टांप, पोस्‍टल स्‍टेशनरी और मनी ऑर्डर फॉर्म की बिक्री पर सेल अमाउंट का 5 प्रतिशत

 रेवेन्‍यू स्‍टांप, सेंट्रल रिक्रूटमेंट फी स्‍टांप्‍स आदि की बिक्री समेत रिटेल सर्विसेज पर पोस्‍टल डिपार्टमेंट को हुई कमाई का 40 प्रतिशत.

जिनका चयन  फ्रेंचाइजी के लिए हो जाएगा, उन्‍हें पोस्टल डिपार्टमेंट की तरफ से ट्रेनिंग भी दी जाएगी . ट्रेनिंग इलाके के सब-डिविजनल इंसपेक्टर द्वारा दी जाएगी. इसके अलावा जो फ्रेंचाइजी प्‍वॉइंट ऑफ सेल्स सॉफ्टवेयर का प्रयोग करेंगे, उन्हें बार कोड स्टिकर भी मिलेगा. अच्छी सेवा देने वाली  फ्रेंचाइजी आउटलेट को पुरस्कार  भी दिया जाएगा.

फॉर्म व अधिक  जानकारी https://www.indiapost.gov.in/VAS/DOP_PDFFiles/Franchise.pdf से प्राप्त की जा सकती है.