Home कारोबार रिलायंस बनी दुनिया की छठी सबसे बड़ी एनर्जी कंपनी

रिलायंस बनी दुनिया की छठी सबसे बड़ी एनर्जी कंपनी

161
0
SHARE

रिलायंस बनी दुनिया की छठी सबसे बड़ी एनर्जी कंपनी

नई दिल्ली ( तेजसमाचार प्रतिनिधि ) –  मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) कामयाबी की नई-नई बुलंदियों को छू रही है. बाजार पूंजीकरण में रिलायंस ने दिग्‍गज कंपनी ब्रिटिया एनर्जी के बीपी पीएलसी को पछाड़ कर दुनिया की छठी सबसे बड़ी तेल कंपनी बन गई है.

भारत में बीपी रिलायंस के साथ तेल के क्षेत्र में साझीदार भी है. दोनों कंपनियों की योजना कृष्णा बेसिन में 40 हजार करोड़ रुपये निवेश करने की है. यहां से वर्ष 2022 में उत्पादन शुरू होने की उम्मीद है. रिलायंस के शेयरों ने इस साल अब तक 31 फीसदी का लाभ दिया है. आपको बता दें कि दुनिया की सबसे बड़ी मुनाफे वाली तेल कंपनी सऊदी अरामको है. वह दुनिया के कुल क्रूड ऑयल का 10 फीसदी अकेले उत्पादन करती है.

मंगलवार को बाजार बंद होने तक रिलायंस का पूंजीकरण 138 अरब डॉलर के पार पहुंच गया. वहीं ब्रिटिश एनर्जी का बाजार पूंजीकरण 132 अरब डॉलर रहा. आपको बता दें कि इस साल अगस्त में भारत के बेंचमार्क इंडेक्स की तुलना में रिलायंस के शेयरों में तीन गुना वृद्धि हुई है. ऐसा उस वक्‍त हुआ जब मुकेश अंबानी ने सऊदी में ऑयल-टू-केमिकल्स कारोबार में हिस्सेदारी ली और कंपनी के ऋण को 18 महीनों में शून्य पर पहुंचने का ऐलान किया.

रिलायंस का बाजार मूल्य पिछले महीने के अंत में पहली बार बीपी से थोड़ा आगे निकल गया था और बुधवार को मुंबई में इसके शेयरों के नए स्तर पर पहुंचने के बाद अब इसने ब्रिटिश कंपनी से बढ़त हासिल कर ली है. यह वर्तमान में एशिया की सबसे बड़ी तेल कंपनी, पेट्रो चाइना कंपनी के साथ अंतर को कम कर रहा है. बीपी के 1.2% लाभ की तुलना में रिलायंस ने इस वर्ष 40% की बढ़ोतरी की है.

रिलायंस इंडस्ट्रीज के मार्केट कैप ने 9.5 लाख करोड़ के निशान को छू लिया है. मुकेश अंबानी की कंपनी यह मुकाम हासिल करने वाली पहली भारतीय कंपनी है. मंगलवार को रिलायंस के शेयर 3.3 फीसदी की तेजी के साथ 1,506.75 पर पहुंच गए जो कि एक नया रेकॉर्ड है.

जब RIL ने 9 लाख करोड़ के मार्केट कैप का आंकड़ा छुआ था. दोपहर में सेंसेक्स 180 पॉइंट की वृद्धि के साथ कारोबार कर रहा था. पिछले महीने आरआईएल ने ऐलान किया था कि कंपनी एक नई सब्सीडरी शुरू करेगी जिसके तहत डिजिटल इनिशिएटिव और ऐप का कोरबार आएगा. इसमें 1.08 लाख करोड़ लगाने की योजना है. यह नई इकाई भारत में सबसे ज्यादा डिजिटल सर्विस देने वाली कंपनी होगी.